15 August Ke Rochak Tathya | १५ अगस्त के बारे में रोचक जानकारी

15 August Ke Rochak Tathya स्वागत है दोस्तों हमारे इस नए लेख में। दोस्तों आप सभी को तो पता ही है की, १५ अगस्त यह तारीख हमारे लिए कितना ख़ास है। क्योंकि इसी दिन हमारे देश को आजादी मिली थी, हम ब्रिटेन से आज़ाद हुए थे। कितने महापुरुष ने इसी दिन के लिए अपना बलिदान दिया था। इसलिए १५ अगस्त हमारे लिए बहुत ही महत्वपूर्ण दिवस है। आज हम घर के बाहर आज़ादी से घूमते है, अपने घर में चैन से सोते है क्योंकि हम आजाद देश के नागरिक है, लेकिन हमे यह आजादी कैसे मिली थी इसकी जानकारी हर भारतियों को होनी बहुत जरूरी है। १५ अगस्त से जुडी बोहत सारि रोचक बातें है, जिन्हे जानना हम सभी के लिए बहुत जरूरी है। तो चलिए बढ़ते है हमारे टॉपिक के तरफ, और जानते है 15 August Ke Rochak Tathya, १५ अगस्त के बारे में रोचक तथ्य जानने के लिये पोस्ट में अंत तक बने रहिये।  

भारत को आज़ादी कैसे मिली थी?

भारत के आजाद होने के पीछे द्वितीय विश्व युद्ध का बहुत बड़ा योगदान रहा। द्वितीय विश्व युद्ध १९३९ से लेकर १९४५ तक चली थी, जिसकी शुरुआत जर्मनी के तानाशाह हिटलर ने की थी। इस युद्ध के दौरान लाखो लोग मारे गये। जिसमे ब्रिटेन के भी बहुत सारे सैनिक मारे गये। द्वितीय विश्व युद्ध से ब्रिटेन के आर्थिक स्थिति पर बहुत ज्यादा असर पड़ा। जिससे भारत को संभालना तो दूर वो अपने खुद के देश को नहीं संभाल पा रहे थे। दूसरी और गांधीजी भारत छोड़ो आंदोलन पर बैठे हुये थे। ब्रिटेन बिलकुल भी असहाय हो गया था, और उनकी हालत अत्यधिक ख़राब हो गयी थी। उसके बाद ब्रिटेन में सत्ता परिवर्तन हुआ, फिर उन्होंने भारत को आजादी देने का निर्णय लिया और उसकी पूरी जिम्मेदारी आख़िरी वायसराय लॉर्ड माउंटबेटन को सौंप दी गयी। फिर उन्होंने इसे २ हिस्सों में बाट दिया, भारत और पाक़िस्तान। तब से लेकर आज तक हम १५ अगस्त को स्वतंत्रता दिवस के रूप में मनाते है। 

ये भी जरूर पढ़िए

भारत को 15 August को ही क्यों आजादी दी गयी?

हम सब १५ अगस्त को स्वतंत्रता दिवस मनाते है, लेकिन क्या आप जानते है की १५ अगस्त को ही हमें आजादी क्यूँ मिली थी। 

भारत को ३० जून १९४८ में आजादी मिलने वाली थी, लेकिन बंगाल में हिन्दू मुस्लिम विवाद बढ़ते ही जा रहे थे और नेहरू, जिन्ना का बँटवारा का मामला भी कुछ ज्यादा ही गर्माया हुआ था इसलिए लॉर्ड माउंटबेटन ने एक साल पहले १९४७ में ही भारत को आजादी दे दी। और १५ अगस्त इसलिए चुना क्योंकि इसी दिन जापान ने आत्मसमर्पण किया था। 

क्या आपको पता है की, 15 August के दिन ही और ४ देश आजाद हुये थे। 

(१) रिपब्लिक ऑफ़ कॉन्गो (Republic Of Congo) रिपब्लिक ऑफ़ कॉन्गो पुरे ८० साल तक फ्रांस के अधीन रहा था। १५ अगस्त १९६० में यह पूरी तरह से फ्रांस से स्वतंत्र हो गया। 

(२) उत्तर कोरिया और दक्षिण कोरिया (North Korea And South Korea) १५ अगस्त १९४५ में यह जापान से आजाद हुआ था। उसके बाद यह दोनों भी स्वतंत्र देश हो गये।  

(३) बहरीन (Bahrain) यह देश १५ अगस्त १९७१ में ब्रिटेन से आजाद हुआ था। 

(४)  लिकटेंस्टीन (Liechtenstein)लिकटेंस्टीन जो की दुनिया का छँटा सबसे छोटा देश है। यह देश  १५ अगस्त १८६६ को जर्मनी से आजाद हुआ था। 

तो यह थे वोह देश जो भारत के अलावा १५ अगस्त के दिन ही स्वतंत्रता दिवस मनाते है। 

क्या आपको पता है, हमे आजादी आधी रात को मिली थी।

लॉर्ड माउंटबेटन ने १५ अगस्त तारीख इसलिये चुना था क्यूँ की इसी दिन जापान ने आत्मसमर्पण किया था। लेकिन हमारे भारत के कुछ ज्योतिष जमकर विरोध कर रहे थे क्यूँ की, वह इस दिन को अशुभ मानते थे। लेकिन लॉर्ड माउंटबेटन ने तारीख को नहीं बदला। ऐसे में ज्योतिषियों ने बीच का रास्ता निकाला और १४ – १५ तारीख की मध्यरात्रि का समय तय किया। उसी दिन मध्यरात्रि में पंडित जवाहर लाल नेहरू ने अपना भाषण ट्रस्ट विद डेस्टिनी दिया था। यह भाषण पुरे देश ने सुना था लेकिन महात्मा गांधीजी यह भाषण नहीं सुन पाये थे क्यों की वेह उस दीन जल्दी सोने चले गये थे। 

क्या आपको पता है, आजादी के जश्न में गांधीजी मौजूद नहीं थे। 

हम सभी को पता है, भारत को स्वतंत्र करने के पीछे गांधीजी का बहुत बड़ा योगदान रहा है। उनके भारत छोड़ो आंदोलन ने ब्रिटिशों के नाक में दम करके रखा था। लेकिन जब दिल्ली में आजादी का जश्न मनाया जा रहा था, उस समय गांधीजी वहा पर मौजूद नहीं थे। वेह उस समय पश्चिम बंगाल के नोआखली में थे। वहां पर गांधीजी हिन्दू – मुस्लिम के दंगो को शांत करने में लगे हुये थे।  सरदार वल्लभभाई पटेल और पंडित जवाहरलाल नेहरू ने उनको खत लिखकर भेजा था लेकिन गांधीजी ने आने से मना कर दिया था। क्यूँ की वहा पर हालात काबू में नहीं थे। इस वजह से गांधीजी आजादी के जश्न में शामिल नहीं हो पाये थे।  

तो दोस्तों यह थे १५ अगस्त की कुछ रोचक बातें। उम्मीद करता हु आपको 15 August Ke Rochak Tathya पसंद आये होंगे। अगर आप १५ अगस्त के बारे में और भी कुछ जानते है तो हमे कमेंट करके जरूर बताये। मिलते है अगले पोस्ट में। 

Read Previous

Singapore Facts in Hindi | सिंगापूर के बारे में रोचक तथ्य

Read Next

Abdul Kalam Facts in Hindi | अब्दुल कलाम के बारे में रोचक तथ्य

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *