Abdul Kalam Facts in Hindi | अब्दुल कलाम के बारे में रोचक तथ्य

abdul-kalam-facts-in-hindi

Abdul Kalam Facts In Hindi स्वागत है दोस्तों हमारे इस नये लेख में। दोस्तों आज का यह लेख बहुत ही ख़ास है क्योंकि हम उस इंसान की बात करने वाले है जो हमारे लिए भगवान समान है। एक ऐसा इंसान जिसे परिभाषित नहीं किया जा सकता। आज हम बात करेंगे एक आदर्श शिक्षक, बहुत अच्छे राष्ट्रपति, और बहुत बड़े वैज्ञानिक डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम की। दोस्तों अब्दुल कलाम को सिर्फ भारत में ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया में बहुत बड़े वैज्ञानिक के रूप में जाना जाता है। दोस्तों आज हम आपको अब्दुल कलाम की कुछ ऐसे बातें बताएँगे जिसे सुनकर आपका सीना गर्व से चौड़ा हो जायेगा। तो आइये जानते है, अब्दुल कलाम से जुड़ी कुछ ऐसी बातें जिसे पढ़कर आप गर्व महसूस करोगे। जानने के लिए पोस्ट में अंत तक बने रहिये। 

Interesting Facts About Abdul Kalam In Hindi 

(१)  दोस्तों अब्दुल कलाम का जन्म १५ अक्टूबर १९३१ को रामेश्वरम के तमिलनाडू में हुआ था। 

(२) इनका पूरा नाम अबुल पकिर जैनुलाब्दीन अब्दुल कलाम है। इनका जन्म एक गरीब मुस्लिम परिवार में हुआ था। इनके पिता एक नाविक थे।

(३) इनका परिवार बहुत बड़ा था, जिसमे १० भाई बहन रहते थे। परिवार बड़ा था इसलिए घर चलाने के लिए यह पांच साल की उम्र से ही, अख़बार बेचा करते थे, और सारा अख़बार रास्ते में ही पढ़ लेते थे। 

(४) अब्दुल कलाम को गणित और फिजिक्स इन दोनों विषयों में बहुत ज्यादा रूचि थी। यह सुबह चार बजे उठकर ठन्डे पानी से नहाकर ट्यूशन जाते थे। क्योंकि सुबह ४ बजे इन्हे मुफ्त ट्यूशन मिलती थी।

(५) जब अब्दुल कलाम रात में पढ़ने बैठते थे तब यह सिर्फ ७ से लेकर ९ बजे तक ही पढ़ सकते थे क्योंकि पहले हर घर में बिजली नहीं रहती थी, तब के लोग दिए ( lamp ) का इस्तेमाल करते थे। lamp जलाने के लिए मिटटी का तेल इस्तेमाल किया करते थे लेकिन इनके घर का मिटटी का तेल ख़तम हो जाता था। लेकिन जब इनके माता पिता ने देखा की, लड़के को पढ़ने में interest है तब उन्होंने अपने लिए अँधेरा रखा और इनको ११ बजे तक पढ़ाया। 

(६) एक बार जब इनके टीचर सुब्रमणियम अय्यर जब इनकी कक्षा में पढ़ा रहे थे तब उन्होंने सारे बच्चों को एक सवाल पूछा की, चिड़िया कैसे उड़ती है, लेकिन किसी भी बच्चों ने सवाल का जवाब नहीं दिया। फिर इनके टीचर सारे बच्चों को समुद्र किनारे ले जाकर जब उड़ती हुयी चिड़ियों का live example दिखाया उसकी पूरी detail समझायी तब इनके दिमाग में वही से इनका proffesion shift हो गया। वही से aeronautics इन्हे समझ में आया।

(७) अब्दुल कलाम ने अपना हाई स्कूल रामनाथपुरम के Schwartz Higher Secondary School से पास किया। फिर इन्होंने अपना collage भारत का सबसे अच्छा collage Madras Institute Of Technology में  Aeronautical engineering में अपना एडमिशन करवाया। एडमिशन के लिए पैसे नहीं थे तो इनकी बेहेन को अपना गहना गिरवी रखना पढ़ा था। 

( ८) जब अब्दुल कलाम ने अपना collage पास किया, उसके बाद इनको २ इंटरव्यू लेटर आये, एक था Ministry Of Defence से और एक था Air Force Dehradun से लेकिन इनको Air Force में जाना था। फिर ये Air Force के इंटरव्यू के लिए देहरादून चले गये, दुर्भाग्यवश यह उस इंटरव्यू में पास नहीं हो पाये क्यूँ की २५ लोगों में से सिर्फ ८ लोगों को ही select किये जाने वाले थे, लेकिन इनका स्थान ९वें अंक पर आया था, इसलिए यह Air Force join नहीं कर पाये।  इसके बाद अब्दुल कलाम बहुत ही दुःखी हो गये थे। अब्दुल कलाम स्वामी श्रीवानंद के बहुत बड़े भक्त थे। स्वामी श्रीवानंद ने ही इनको फिर से motivate किया। फिर अब्दुल कलाम ने दिल्ली जाकर  Ministry Of Defence का इंटरव्यू पास कर लिया। फिर इनको ६ महीने की ट्रेनिंग के लिए NASA भेज दिया गया। NASA वालों ने इनको बहुत बड़ा ऑफर दिया था NASA join करने के लिए, लेकिन अब्दुल कलाम ने उस ऑफर को ठुकरा दिया, और भारत वापस आ गये। 

( ९) अब्दुल कलाम भारत में वापस आकर ISRO join कर लिया। शुरुवाती दिनों में इनके पास ऑफिस नहीं था इसलिए इन्होंने चर्च को ही ऑफिस बना लिया। फिर सारे वैज्ञानिक जो नासा से ट्रैन हो कर आये थे वो सभी लोग चर्च में आकर अपना काम किया करते थे। फिर यह सारे वैज्ञानिक मिलकर समुद्र किनारे बीच पर अपना पहला launch pad बनाया, और इनकी जो laboratory थी वह गौशाला में बनायीं गयी, और जो चर्च के फादर थे उनके घर को इन्होंने वर्कशॉप बनाया। उसके बाद बैलगाड़ी और साइकिल पे रॉकेट्स के छोटे छोटे पार्ट्स और satellite लेजाया गया, और भारत ने १९६३ में अपना पहले रॉकेट launched  किया था। 

(१०) अब अब्दुल कलाम ३२ उम्र के थे तब इनकी सगाई फिक्स हो गयी थी, लेकिन यह रॉकेट बनाने में इतना मग्न हो गए थे की यह अपनी सगाई भूल गए थे। 

(११) अब्दुल कलाम को १९६९ में इसरो का डायरेक्टर बना दिया गया। फिर इन्होने SLV – 3  (Satellite Launch Vehicle ) launched करनेका सोचा, लेकिन इसके लिए इसरो के पास इतना fund मौजूद नहीं था। इन्होंने जब सरकार से मदत माँगी तब सरकार ने privately इनको मदत की, उसके बाद पूरी मेहनत से इन्होंने SLV – 3 को launched किया। इतने परिश्रम के बावजूद इनका SLV – 3 failed हो गया। अब्दुल कलाम इसरो के डायरेक्टर थे इसलिए यह घबरा गये, क्योंकि देश का करोड़ो का नुकसान हो चूका था। फिर एक साल बाद दोबारा से इन्होने SLV – 3 launched किया और इनका mission सफल हो गया।  

(१२) अब्दुल कलाम साल के ३६५ दिन और दिन में १८ घंटे काम किया करते थे। १९६९ से लेकर १९७९ तक इन दस सालो के भीतर इन्होने सिर्फ २ बार छुट्टी ली थी, एक पिता के गुजर जाने पर और एक माँ के गुजर जाने पर। और ये जब सफल हुए तब इन्होंने पूरा श्रेय अपनी पूरी टीम को दिया। 

( १३) अब्दुल कलाम को १९८१ में पद्मभूषण दिया गया। 

(१४) १९८२ में अब्दुल कलाम को DRDO का डायरेक्टर बना दिया गया। 

(१५) इसके बाद अब्दुल कलाम ने Integrated Guided Missile Model शुरू किया और एक के बाद एक missile बनानी शुरू कर दी। १९८५ में इन्होंने त्रिशूल नाम की मिसाइल बनायीं, फिर इन्होंने १९८८ में पृथ्वी नाम की मिसाइल बनायीं, १९८९ में आकाश और नाग यह दोनों मिसाइल भी बना दी। लेकिन अग्नि मिसाइल में ये बार बार असफल हो रहे थे, पुरे भारत में बवाल मच गया था फिर इन्होंने पूरी मेहनत करके अग्नि मिसाइल को भी सफल बना दिया। अग्नि मिसाइल बनाने के बाद भारत छठा ऐसा देश था जिन्होंने इतनी पावरफुल मिसाइल बनायीं। अब्दुल कलाम ने एक के बाद एक पावरफुल मिसाइल्स बनायीं इस वजह से लोग उन्हें मिसाइल मॅन के नाम से जानने लगे। 

ये भी जरूर पढ़िए

डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम की ५ ऐसी बातें जो जिंदगी में बहुत काम आयेगी। 

abdul-kalam-thoughts

(१) हमेशा बड़ा सोचो, छोटी सोच अपराध के बराबर है। 

(२) सपना हमेशा खुली आंखों से देखना चाहिये। 

(३) सूरज की तरह चमकना चाहते हो तो, सूरज की तरह जलना होगा।  

(४) जो काम दूसरे लोग नहीं कर रहे है, वह काम करने की हिम्मत रखनी चाहिए। 

(५) इंतज़ार है बेकार। 

क्या आप जानते है, अब्दुल कलाम की मौत कैसे होती थी?

अब्दुल कलाम २७ जुलाई २०१५ को मेघालय में शिलॉन्ग के IIM Collage में लेक्चर दे रहे थे। लेक्चर देते देते ही उन्हें दिल का दौरा पड़ा और वेह जमीन पर गिर पड़े, उसी क्षण उनकी मौत हो गयी। 

उम्मीद करता हु आपको Abdul Kalam Facts In Hindi के बारे में यह सारी बातें जानकर अच्छी लगी होगी। पोस्ट पसंद आयी हो और अगर आप अब्दुल कलाम के बारे में और भी कुछ जानते है, तो कमेंट करना मत भूलिये। मिलते है अगले पोस्ट में। 

Read Previous

15 August Ke Rochak Tathya | १५ अगस्त के बारे में रोचक जानकारी

Read Next

Raksha Bandhan Kyu Manate Hai | Raksha Bandhan Ki Shuruvat

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *