Amit Shah Biography in Hindi | अमित शाह के बारे में जानकारी

amit-shah-biogrpahy-in-hindi

Amit Shah Biography in Hindi दोस्तों स्वागत है, हमारे इस नये लेख में। दोस्तों आज हम अमित शाह जी के जीवन परिचय के विषय में बात करेंगे। अमित शाह जी भारत की प्रमुख राजनैतिक पार्टी भारतीय जनता पार्टी के ex-president है। अमित शाह जी को बीजेपी का चाणक्य कहा जाता है। भारतीय जनता पार्टी को कई राज्य में जीत दिलाने का पूरा श्रेय इन्हे ही जाता है। अमित शाह जी बीजेपी में अब तक के सबसे सफल अध्यक्ष साबित हुये है। आज भारतीय जानत पार्टी इन्ही के बदौलत इतनी सफलता प्राप्त कर चुकी है। मोदी सरकार के द्वितीय कार्यकाल के दौरान गृहमंत्री बनने के बाद इन्होने ही जम्मू -कश्मीर से धारा ३७० और Article 35 A हटाया था। तो आइये इनके जीवन के बारे में और थोड़ा करीब से जानते है। 

अमित शाह का प्रारंभिक जीवन एवं शिक्षा 

Amit Shah का जन्म २२ अक्टूबर १९६४ को मुंबई में हुआ। इनके पिता का नाम अनिलचंद्र शाह है, जो की गुजरात के मनसा टाउन में पीबीसी पाइप का व्यपार किया करते थे। इनकी माता जी का नाम कुसुमबेन शाह है। वह गुजरात के रईस परिवार से सम्बंधित है। इनका गांव पाटण जिले के चँन्दूर में है। मेहसाणा में प्राथमिक पढ़ाई के बाद वह बायो-केमिस्ट्री पढ़ने के लिये अहमदाबाद आये,जहा से उन्होंने CU Shah Science College से  बायो-केमिस्ट्री में बीएससी की। पढ़ाई के बाद वेह अपने पिता का व्यापार संभालने लगे। राजनीती में आने से पहले वेह प्लास्टिक के पाइप का व्यापार करते थे और साथ ही साथ वेह स्टॉक ब्रोकर का भी काम किया करते थे। बहुत कम उम्र में ही राष्ट्रिय स्वयंसेवक संघ से जुड़ गये थे।

अमित शाह नरेंद्र मोदी जी से कब मिले थे? 

amit-shah-with-narendra-modi

१९८२ में पहली बार उनकी मुलाकात नरेंद्र मोदी जी से हुयी, जब वह कॉलेज में थे। और उस समय मोदी जी भी राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से जुड़े हुये थे। इस तरह उनका छात्र जीवन में राजनितिक रुझान बन गया।

अमित शाह का राजनितिक करियर 

amit-shah-political-career

Amit Shah जी ने अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद से राजनीती शुरू की और १९८७ में अमित शाह भारतीय जनता पार्टी से जुड़ गये। और इसके बाद भारतीय जनता युवा मोर्चा जो की बीजेपी की युथ विंग है,यहाँ से शुरुआत की। लेकिन बहुत ही कम समय में अपने दिमाग और मेहनत के चलते वह तेजी से आगे बढ़ते चले गये। फिर युवा मोर्चा के अंतर्गत ही, वार्ड सेक्रेटरी, तालुका सेक्रेटरी, स्टेट सक्रेटरी, वाईस प्रेसिडेंट और जनरल सेक्रेटरी ऐसे अलग अलग पोस्ट में वह काम करते गये। 

१९९१ के लोकसभा इलेक्शन में लाल कृष्णा अडवाणी के चुनाव कैंपेन को मैनेज करते हुये वह पहली बार लैंप लाइट में आ गये। और फिर १९९५ में बीजेपी ने पहली बार गुजरात में सरकार बनायीं जहा पर कांग्रेस पार्टी बहुत ही ताकतवर थी। और दोस्तों इस चुनाव में नरेंद्र मोदी जी और अमित शाह ने दोनों मिलकर लाजवाब काम किया था। दोनों के दिमाग की वजह से पहली बार बीजेपी ने गुजरात के अंदर चुनाव जीता था। और फिर पार्टी में शानदार काम को देखते हुये अमित शाह को सरखेज नाम के जगह से विधायकी चुनाव लड़ने का मौका मिला। और कहा जाता है की, अमित शाह को टिकेट दिलाने के लिये नरेंद्र मोदी जी ने भी सिफारिश की थी। और इस तरह से उस समय से ही मोदी जी और शाह की दोस्ती पक्की होने लगी। और यह चुनाव जीतकर वह विधायक बन गये।

अमित शाह राष्ट्रिय अध्यक्ष कब बने?

१९९९ में Amit Shah Ahmedabad District Cooperative Bank के अध्यक्ष बन गये। उस समय बैंक काफी घाटे में चल रही थी लेकिन जब शाह अध्यक्ष बने उसके १ साल बाद बैंक को काफी मुनाफा हुआ। और फिर २००१ में केशुभाई पटेल को हटाकर नरेंद्र मोदीजी को गुजरात का CM बनाया गया तब अमित शाह ने भी गुजरात के कैबिनेट में अलग अलग मंत्रालय संभाले। और एक समय ऐसा था जब १२ मिनिस्ट्री वह अकेले संँभाल रहे थे। 

एक समय ऐसा भी आया जब सोहराबुद्दीन शेख की फर्जी मुठभेड़ के मामले में उन्हें 25 जुलाई 2010 में गिरफ्तारी का सामना करना पड़ा। शाह पर आरोपों का सबसे बड़ा हमला खुद उनके बेहद खास रहे गुजरात पुलिस के निलंबित अधिकारी डीजी बंजारा ने किया। इसके बाद अमित शाह बीजेपी में अपना एहम किरदार निभाते चले गये। इसके बाद २०१४ के लोक सभा इलेक्शन में मोदीजी को जिताने में अमित शाह ने एहम भूमिका निभाई। और इसी साल उनको बीजेपी का राष्ट्रिय अध्यक्ष बनाया गया। और यहाँ से इनका दिमाग और मोदीजी के नेतृत्व में बीजेपी सरकार कभी पीछे मुड़कर नहीं देखी। और २०१९ में भी बीजेपी ने एक तरफ़ा जीत हासिल की। इस बार अमित शाह को गृह मंत्रालय सोपा गया। और गृह मंत्री बनने के ३ महीने बाद ही धारा ३७० हटा दी गयी। और इस तरह अमित शाह को बीजेपी के चाणक्य नाम से जानने लगे। 

अमित शाह की चुनावी उपलब्धियाँ 

1989 से 2014 के बीच शाह गुजरात राज्य विधानसभा और विभिन्न स्थानीय निकायों के लिए 42 छोटे-बड़े चुनाव लड़े, लेकिन वे एक भी चुनाव में पराजित नहीं हुये।

अमित शाह का व्यक्तिगत जीवन    

Amit Shah की शादी दिसंबर १९८७ को हुयी। इनकी पत्नी का नाम सोनल शाह है। इनके पुत्र का नाम जय शाह है। अमित शाह अपनी माँ से बहुत प्यार करते थे। इनके गिरफ्तारी से महज १ महीने पहले ८ जून २०१० को इनकी माँ की मृत्यु एक बिमारी से हो गयी। हाल ही में उनके बेटे जय शाह की शादी ऋषिता नाम की लड़की से हो गयी। 

amit-shah-at-somnath-temple

अमित शाह की कुल संपत्ति

भाजपा अध्यक्ष अमित शाह की संपत्ति पिछले सात सालों में तीन गुणा बढ़ी है। साल 2012 में जहां उनकी कुल संपत्ति करीब 11.79 करोड़ की थी, वह अब बढ़कर करीब 38.81 करोड़ हो गई है। 

अमित शाह के पास एक भी वाहन नहीं है। वहीं, जेवरात के रूप में शाह के पास 35 लाख रुपये की संपत्ति है तो उनकी पत्नी के पास 63 लाख रुपये के जेवरात हैं। 

अमित शाह ने करबटिया गांव में करीब 10 एकड़ जमीन है, इसमें उनकी पत्नी सोनल शाह का 40 पीसद हिस्सा है। जब यह जमीन खरीदी गई थी तब इसकी कीमत 4 लाख रुपये थी। वहीं, अब इस जमीन की कीमत लगभग 80 से 85 लाख के तक है। इसके अलावा अमित शाह के पास विरासत के रूप में मिला शीलज में एक प्लॉट है, जिसकी कीमत फिलहाल 6-7 करोड़ रुपये तक है।

शाह के पास गांधीनगर में एक प्लॉट है। यह प्लॉट 98 हजार रुपये में खरीदा था जिसकी कीमत आज के तारीख में 27-30 लाख रुपये है। 

दोस्तों यह थी हमारे गृह मंत्री अमित शाह जी के जीवन से जुडी बाते। आपको इनके बारी में यह जानकारी कैसी लगी यह हमें कमेंट करके जरूर बताइये। और आप और किस महान व्यक्ति के बारे में जीवनी जानना चाहते हो यह भी हमें कमेंट करके जरूर बताइये। 

Read Previous

Akshay Kumar Facts in Hindi | अक्षय कुमार के बारे ने रोचक तथ्य

Read Next

Sardar Vallabhbhai Patel Biography in Hindi | सरदार वल्लभभाई का पटेल जीवन परिचय

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *